शिक्षा पर निबंध - Essay on shiksha- शिक्षा का महत्व

यह निबंध नीरज आर्या द्वारा शिक्षा पर लिखी गयी है आप अपने अनुसार इसमें से 100, 200, 300, 500 या आपकी जितनी मर्जी उतने शब्द छाट कर अपना बना सकते है | यह निबंध शिक्षा क्या है, शिक्षा के महत्व, शिक्षा और शिक्षक का सम्बन्ध, शिक्षा क्यों जरुरी है ?, शिक्षा के आधिकार जैसी कई महत्यपूर्ण कड़ीयो को उजागर करने के लिए लिखा गया है | इसमें व्याकरण की अशुद्धिया हो सकती है इसके लिए मै माफ़ी चाहूँगा | 


 शिक्षा 


शिक्षा के बारे में हम विस्तार से जाने और उसी में खो जाये इससे पहले हमलोग शिक्षा क्या है इसपे थोड़ी टिप्पणी कर लेते है | 
शिक्षा का महत्व poetry squad

शिक्षा क्या है?


शिक्षा का शाब्दिक अर्थ के बारे में बात करे तो शिक्षा संस्कृत के शिक्ष् धातु से बना है जिसका अर्थ होता है सीखना या सिखाना | अर्थात शिक्षा एक ऐसी परक्रिया है जिसमे हम कुछ सीखते या सिखाते है| अगर दुसरे शब्दों में कहे तो शिक्षा एक ऐसी साधन है जिससे हमारे विवेक, बुद्धि और ज्ञान का विस्तार होता है |, और हमे समस्याए से जूझने की ताकत और हौसला मिलती है| ये हमारे कल्याण, कुशलता और व्यक्तित्व निर्माण का कारक होता है| ऐसे तो शिक्षा का कोई रूप रंग या आकर नही होता फिर भी हमारे जीवन के अत्यंत महत्यपूर्ण और कभी न समाप्त होने वाला सर्वश्रेष्ट, अतुल्य उपलब्धि है |शिक्षा एक ऐसी साधना और तपस्या है जिसका कोई अंत नही है ये अनंत है, इसका असीमित विस्तार हो सकता है, ये बाटने पर बढ़ता है और पाने पर और पाने की लालसा होती है | अर्थात ये हमारे जीवन को संतुलित रूप से चालने के लिए अत्यंत महत्यपूर्ण है |

शिक्षा का महत्व 


शिक्षा हमारे जीवन का सारथी है | शिक्षा के बिना हमारे जीवन की कल्पना भी दुष्कर है | शिक्षा सिर्फ वो नही है जो हम विद्यालयों में ग्रहण करते है, शिक्षा हम अपने घर, परिवेश, दोस्त, विद्यालय, प्रकृति, या जहा से हम सीखे वो सब सब हमारे लिए शिक्षा का श्रोत है | चाहे हम अपनी तोतली जबान से माँ कहना सीखते हो, या अपने दोस्तों के संग खेल खेल में सफलता की निति ये सब शिक्षा की ही इकाई होता है | शिक्षा हमारे मस्तिष्क की अवचेतना को बढ़ता है और ज्यादा सिखने की ओर अग्रसर करता है जिससे हमारी ज्ञान की बढ़ोतरी होती है, सकारात्मकता की प्रवेश और नकारात्मकता से दुरी बनती है | शिक्षा हमारे उज्जवल भविष्य के लिए एक अत्यंत महत्वपूर्ण उपकरण है ये हमे सही मार्ग दिखाता है और सफलता की ओर ले जाता है | शिक्षा ही हमे सामाजिक और वय्व्हारिक बुराइयों के खिलाफ खड़े होने की शक्ति देता है और इससे जूझने की हिम्मत देता है | शिक्षा हमारा वो साथी है जो जीवन भर हमारा साथ नही छोड़ता, ये हमारे खून के रिश्ते से भी ज्यादा सच्चा और निष्ठावान साथी होता है | शिक्षा के महत्व का आप इस बात से ही आप अंदाजा लगा सकते है की, शिक्षा हमारे महत्व को बढ़ाता है| अर्थात शिक्षा जीवन का आधार है |

शिक्षा और शिक्षक का सम्बन्ध 


शिक्षक और शिक्षा का सम्बन्ध इस तरह से है की सिक्षा के बिना शिक्षक होना संभव नही और शिक्षक के बिना शिक्षा संभव नही | जिस किसी से हम कुछ भी सीखते हो वो हमारे शिक्षक है |, शिक्षक एक ऐसी आदरनीय वय्क्तित्वा है जो हमारे जीवन को सार्थक बनाता है, इसके तुल्य संसार में कोई भी नही | शिक्षक और विद्यार्थी का प्रेम पारस की तरह पवित्र है, इस जैसा परोपकारी और कोई नही जो हमे जीवन का मूल मंत्र  बताता है परन्तु बदले कुछ भी पाने की लालसा न रखता है | हम ये भी कह सकते है की शिक्षक हमारे जीवन को सफल सुचारू पूर्वक चलाने की कुंजी है |

शिक्षा क्यों जरुरी है ?


शिक्षा हमारे जीवन में उतना ही जरुरी है जितना की भोजन, ऐसा कहा जाता है की अगर एक समय का भोजन न मिले तो चलेगा परन्तु शिक्षा जरुर मिलना चाहिए, शिक्षा इसलिए भी जरुरी है की शिक्षा से समझ का विस्तार होता है इससे हमारे सोचने की शक्ति में वृद्धि होती है, ये हमे सही गलत में फर्क करने में भी मदद करता है जिससे हम बेहतर निर्णय ले पाते है | ये हमारे जीवनशैली को शुद्ध एवं स्वच्छ बनाता है और हमारे जीवन के भूल को सुधार करके नई उर्जा के साथ आगे बढ़ने में मदद करता है |, ये हमारे शारीरिक भाषा और संचार को भी विशेष और कुशल बनाता है जिससे हम अपने आप को दुसरो के समछ उचित रूप से प्रस्तुत कर पाते है और तारीफ के पात्र बनते है|ये हमे स्वतंत्र और स्वावलंबी बनता है, हमारे अधिकारों का बोध करता है जिससे हम कई छोटी बड़ी परेशानी से निज़ात पाते है | अतः शिक्षा हमारे स्तीत्व की रक्षा करता है |

शिक्षा का अधिकार


 हमारे देश भारत में शिक्षा हर बच्चे का मौलिक अधिकार है हमारे देश की संविधान की (छियासीवां संशोधन) अधिनियम, 2002 के तहत  अंत: स्‍थापित अनुच्‍छेद 21-क अनुसार हर छह से चौदह वर्ष  की आयु के बच्चे को मुफ्त शिक्षा का अधिकार है | जो की बेहद जरुरी है, हालाँकि हमारे शिक्षा के व्यवस्था में कुछ त्रुटिया भी है जैसे की आज हमारे देश में कई ऐसी शिक्षण संस्थान है जो शिक्षा जैसी पवित्र चीज से भी धन अर्जित करना चाहती है जो की निंदनीय है, और कुछ हमारी सरकार की वयवस्था में भी कमजोरिया है | जिसके खिलाफ हम शिक्षित लोगो को ही खड़ा होना पड़ेगा |

निष्कर्ष


शिक्षा हमारे जीवन को सुचारू चलाने की कुंजी है, शिक्षा का महत्व हमारे लिए अतुल्य है यही जीवन का आधार है, शिक्षा से ही शिक्षक है और शिक्षक से ही शिक्षा, ये हमारे जीवन की स्तीत्व की रक्षा करता है, और ये हमारा मौलिक आधिकार भी है  |



  इस पोस्ट को भी जरुर पढ़े 
          Also read this post
दोस्तों एक बड़े ही मशहुर व्यक्ति और बिसनेस मैन बिल गेट्स ने अंग्रेजी में कहा है "if you born poor it's not your fault, but if you die poor it's your fault." जिसका अर्थ है की आप गरीबी में जन्म लेते है तो ये आपकी गलती नही है, परन्तु आप गरीबी में ही मर जाते है तो ये आपकी गलती है| इस बात के बारे में आपके क्या विचार है ? मुझे तो लगता है ये बड़े निरर्थक विचार है इसे बिना सोचे समझे बिना गरीबी के बारे में जाने बस कह दिया गया है | ये बात मै कोई हवा में नही कह रहा आप अपने आपको मुझे गहराइयों ले जाने का इजाजत दे मै ये बात आपके समछ सिद्ध कर दूंगा |
                                                                                                       to read full article click here



Very very Thankyou to read this article. You can also subscribe us on Youtube, Search there Poetry Squad or simple click on it.

And anyone can write a post on this website if You have to write go to Contact us. From there you can contact us. And You can also recite Your poem on Youtube by contacting us.
T&C Apply


Must Drop Your Comment.





Poetry Squad is a platform that provide you Poetry,Story,Dramas & Articles in English and Hindi language.
Poetrysquad एक ऐसा प्लेटफार्म  है  जो आपको कविताये , कहानियाँ, नाटक,और लेख हिन्दी और अंग्रेजी भाषा में उपलब्ध करता है|

No comments

If you have any suggestion or you want to tell something then write

Theme images by enjoynz. Powered by Blogger.